सच की तू तावीज बंधा दे – दादी माँ मै सोना चाहूं


सच की तावीज
दादी माँ मै सोना चाहूं
दे-ना चाहे तो लोरी गाये
मुझे सुला दे !!
दुल्हन दे -या -चाँद खिलौना
थाली में परछाईं या फिर
तारों की बारात दिखा दे
दूध दही टानिक मन चाहे
मुस्काए तो दादी अम्मा
चूने का ही घोल पिला दे
रंग -बिरंगे परिधानों से सज-
गाडी चढ़
कान्वेंट स्कूल भिजा दे
मन क्यों बोझिल??
कागज़ दे लकड़ी के टुकड़े –
प्राईमरी पैदल पहुंचा दे
हवा चले भी कुछ टूटे ना
मुस्काए वे घूम रहे हैं
नम क्यों आँखें -पट्टी बाँधे
चलूँगा मै भी बोझ उठाये
चलें वे उड़कर वर्दी सजकर –
मेवे खाएं !!
पेट तुम्हारा मै भी भरकर
सर आँखों में तुझे बिठाकर –
चलूँ उठाये !!
महल उठाये नाम कमाए
‘धन’-‘ लालच’ कुछ शीश झुकाए
रोशन तेरा नाम करूँगा -“कुटिया ” में
दुनिया खिंच आये
गर्व भरे तू शीश उठाये !!
‘दादी’ –‘माँ’ -सपने ना मुझको
सच की तू तावीज बंधा दे
हंसती रह तू दादी अम्मा
आँचल सर पर मेरे डाले
मार पीट कर उसे गिराकर
‘पहलवान’ जो ना बन पाऊँ
दे ऐसा ‘आशीष’ मुझे माँ
‘आँखों का तारा’ बन जाऊं

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५
२०.०८.१९९४( लेखन हजारीबाग-झारखण्ड )

Advertisements

About surendrashuklabhramar5

माँ सरोज ने कमल खिलाया , शिव ने आशीर्वाद दिया ,मधुर -मधुर कवितायेँ रच के -खुश्बू हम फ़ैलाने आये -सदा सत्य की विजय धरा हो - यही आप से मांग रहे हम -अपना प्यारा साथ हमें दो -'दर्द' और 'दर्पण' को मेरे -अपना योगदान कुछ दे दो -कुछ लिख कर के -कुछ पढ़ कर के -अँधियारा अब दूर भगाओ सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५ प्रतापगढ़ उ.प्र.
This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s